Simply enter your keyword and we will help you find what you need.

What are you looking for?

प्रेम लहरी (Prem Lahari)

Nominated | Book Awards 2019 | Hindi Fiction

प्रेम लहरी (Prem Lahari)

Author: त्रिलोक नाथ पांडे (Trilok Nath Pandey)
Publisher: Rajkamal Prakashan

Award Category: Hindi Fiction

About the Book: 

'प्रेमलहरी' इतिहास के बड़े चौखटे में कल्पना और जनश्रुतियों के धागों से बुनी हुई प्रेमकथा है। यह इतिहास नहीं है, न ही इसका वर्णन किसी इतिहास पुस्तक में मिलता है। लेकिन जनश्रुति में इस कथा के अलग-अलग हिस्से या अलग-अलग संस्करण अकसर सुने जाते हैं। इस प्रेम-आख्यान के नायक-नायिका हैं शाहजहाँ के राजकवि और दारा शिकोह के गुरु पंडितराज जगन्नाथ और मुगल शाहज़ादी गौहरआरा उर्फ लवंगी। मध्यकालीन इतिहास में हिन्दू-मुस्लिम प्रेम-आख्यान तो कई मिलते हैं, लेकिन किसी शाहज़ादी की किसी ब्राह्मण आचार्य और कवि से यह अकेली प्रेम कहानी है जो मुगल दरबार की दुरभिसन्धियों के बीच आकार लेती है। 'गंगालहरी' खुद पंडितराज जगन्नाथ का अद्भुत संस्कृत काव्य है जिसमें कहीं-कहीं खुद उनके प्रेम की व्यंजना निहित है। प्रचलित बतकहियों की गप्प समाजविज्ञान से मिल जाए तो उससे एक बड़ा सच भी सामने आ जाता है। इस उपन्यास में यह हुआ है। मुगल शाहज़ादियों को न शादी की इजाज़त थी न प्रेम करने की। ऐसे में चोरी-छुपे प्रेम-सुख तलाश करना उनकी मजबूरी रही होगी। इस उपन्यास में ऐसे कुछ विवरण आए हैं। यह उपन्यास इतिहास की एक फैंटेसी है, जिसमें किंवदन्तियों के आधार पर मध्यकालीन सत्ता-संरचना के बीच दो धर्मों और दो वर्गों के बीच न पाटी जा सकनेवाली खाली जगह में प्रेम का फूल खिलते दिखाया गया है।

About the Author: 

वाराणसी (अब चन्दौली) जि़ले के नेकनामपुर गाँव में 1 जुलाई, 1958 को जन्मे त्रिलोक नाथ पांडेय की शिक्षा गाँव के विद्यालय में हुई। तत्पश्चात, उन्होंने काशी हिन्दू विश्वविद्यालय एवं इलाहाबाद विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा प्राप्त की। भारत सरकार के गृह मंत्रालय में वरिष्ठ अधिकारी के रूप में श्री पांडेय देश के विभिन्न स्थानों पर पदस्थापित रहे हैं। सराहनीय सेवाओं के लिए भारतीय पुलिस पदक (2010) एवं विशिष्ट सेवाओं के लिए राष्ट्रपति द्वारा पुलिस पदक (2017) से अलंकृत हो चुके श्री पांडेय अंग्रेज़ी और हिन्दी दोनों भाषाओं में लिखते हैं। 'प्रेमलहरी' उनकी पहली औपन्यासिक कृति है।
पता : डी-59/240 एम, निरालानगर (लेन न. 6), वाराणसी (उ.प्र.)।

सम्पर्क : [email protected]

Write a Review

Review प्रेम लहरी (Prem Lahari).

Your email address will not be published. Required fields are marked *