Simply enter your keyword and we will help you find what you need.

What are you looking for?

पागलखाना (Pagalkhana)

Shortlisted | Book Awards 2019 | Hindi Fiction

पागलखाना (Pagalkhana)

Author: Gyan Chaturvedi
Publisher: Rajkamal Prakashan

Award Category: Hindi Fiction

About the Book: 

ज्ञान चतुर्वेदी का यह पाँचवाँ उपन्यास है। इसलिए उनके कथा-शिल्प या व्यंग्यकार के रूप में वह अपनी औपन्यासिक कृतियों को जो वाग-वैदग्ध्य, भाषिक, शाब्दिक तुर्शी, समाज और समय को देखने का एक आलोचनात्मक नज़रिया देते हैं, उसके बारे में अलग से कुछ कहने का कोई औचित्य नहीं है। हिन्दी के पाठक उनके 'नरक-यात्रा', 'बारामासी' और 'हम न मरब' जैसे उपन्यासों के आधार पर जानते हैं कि उन्होंने अपनी औपन्यासिक कृतियों में सिर्फ व्यंग्य का ठाठ खड़ा नहीं किया, न ही किसी भी $कीमत पर पाठक को हँसाकर अपना बनाने का प्रयास किया, उन्होंने व्यंग्य की नोक से अपने समाज और परिवेश के असल नाक-नक्श उकेरे। इस उपन्यास में भी वे यही कर रहे हैं। जैसा कि उन्होंने भूमिका में विस्तार से स्पष्ट किया है यहाँ उन्होंने बाज़ार को लेकर एक विराट फैंटेसी रची है। यह वे भी मानते हैं कि बाज़ार के बिना जीवन सम्भव नहीं है। लेकिन बाज़ार कुछ भी हो, है तो सिर्फ एक व्यवस्था ही जिसे हम अपनी सुविधा के लिए खड़ा करते हैं। लेकिन वही बाज़ार अगर हमें अपनी सुविधा और सम्पन्नता के लिए इस्तेमाल करने लगे तो? आज यही हो रहा है। बाज़ार अब समाज के किनारे बसा ग्राहक की राह देखता एक सुविधा-तंत्र-भर नहीं है। वह समाज के समानान्तर से भी आगे जाकर अब उसकी सम्प्रभुता को चुनौती देने लगा है। वह चाहने लगा है कि हमें क्या चाहिए यह वही तय करे। इसके लिए उसने हमारी भाषा को हमसे बेहतर ढंग से समझ लिया है, हमारे इंस्टिंक्टस को पढ़ा है, समाज के रूप में हमारी मानवीय कमज़ोरियों, हमारे प्यार, घृणा, गुस्से, घमंड की संरचना को जान लिया है, हमारी यौन-कुंठाओं को, परपीड़न के हमारे उछाह को, हत्या को अकुलाते हमारे मन को बारीकी से जान-समझ लिया है, और इसीलिए कोई आश्चर्य नहीं कि अब वह चाहता है कि हमारे ऊपर शासन करे। इस उपन्यास में ज्ञान चतुर्वेदी बाज़ार के फूलते-फलते साहस की, उसके आगे बिछे जाते समाज की और अपनी ताकत बटोरकर उसे चुनौती देनेवाले कुछ बिरले लोगों की कहानी कहते हैं।

About the Author: 

Born: August 2, 1952

मऊरानीपुर (झाँसी) उत्तर प्रदेश में 2 अगस्त, 1952 को जन्मे डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी की मध्य प्रदेश में ख्यात हृदयरोग विशेषज्ञ की तरह विशिष्ट पहचान। चिकित्सा शिक्षा के दौरान सभी विषयों में स्वर्ण पदक प्राप्त करने वाले छात्र का गौरव हासिल किया। भारत सरकार के एक संस्थान (बी.एच.ई.एल.) के चिकित्सालय में कोई तीन दशक से ऊपर सेवाएँ देने के पश्चात् हाल ही में शीर्षपद से सेवा-निवृत्ति।
लेखन की शुरुआत सत्तर के दशक से 'धर्मयुग’ से। प्रथम उपन्यास 'नरक-यात्रा’ अत्यन्त चर्चित रहा, जो भारतीय चिकित्सा-शिक्षा और व्यवस्था पर था। इसके पश्चात् 'बारामासी’ तथा 'मरीचिका’ जैसे उपन्यास आए और 'हम न मरब’ उनकी ताजा औपन्यासिक कृति।

दस वर्षों से 'इंडिया टुडे’ तथा 'नया ज्ञानोदय’ में नियमित स्तम्भ। इसके अतिरिक्त राजस्थान पत्रिका और 'लोकमत समाचार’ दैनिकों में भी व्यंग्य स्तम्भ।

अभी तक तकरीबन हजार व्यंग्य रचनाओं का प्रकाश। 'प्रेत कथा’, 'दंगे में मुर्गा’, 'मेरी इक्यावन व्यंग्य रचनाएँ’, 'बिसात बिछी हैं’, 'खामोश! नंगे हमाम में हैं’, 'प्रत्यंचा’ ओर 'बाराखड़ी’ व्यंग्य-संग्रह।
शरद जोशी के 'प्रतिदिन’ के प्रथम खंड का अंजनी चौहान के साथ सम्पादन।

'राष्ट्रीय शरद जोशी सम्मान’ म.प्र. सरकार। दिल्ली अकादमी का व्यंग्य लेखन के लिए दिया जाने वाला प्रतिष्ठित दिल्ली 'अकादमी सम्मान’। अन्तर्राष्ट्रीय इन्दु शर्मा कथा-सम्मान (लन्दन) तथा 'चकल्लस पुरस्कार’ के अलावा कई विशिष्ट सम्मान।

पुत्री नेहा डॉक्टर हैं तथा बेटा दुष्यन्त इंजीनियर। पत्नी शशि चतुर्वेदी भारत सरकार के चिकित्सा-संस्थान में स्त्रीरोग विशेषज्ञ।

सम्पर्क : ए-40, अलकापुरी, भोपाल : 402-024 दूरभाष : 0755-2450408

Write a Review

Review पागलखाना (Pagalkhana).

Your email address will not be published. Required fields are marked *