Simply enter your keyword and we will help you find what you need.

What are you looking for?

दरकते हिमालय पर दर-ब-दर (Darakte Himalaya Par Dar-Ba-Dar)

Shortlisted | Book Awards 2019 | Hindi Non-Fiction

दरकते हिमालय पर दर-ब-दर (Darakte Himalaya Par Dar-Ba-Dar)

Author: अजय सोडानी (Ajay Sodani)
Publisher: Rajkamal Prakashan

Award Category: Hindi Non-Fiction

About the Book: 

अजय सोडानी की किताब 'दरकते हिमालय पर दर-ब-दर’ इस अर्थ में अनूठी है कि यह दुर्गम हिमालय का सिर्फ एक यात्रा-वृत्तान्त भर नहीं है, बल्कि यह जीवन-मृत्यु के बड़े सवालों से जूझते हुए वाचिक और पौराणिक इतिहास की भी एक यात्रा है। इस पुस्तक को पढ़ते हुए बार-बार लेखक और उनकी सहधर्मिणी अपर्णा के जीवट और साहस पर आश्चर्य होता है। अव्वल तो मानसून के मौसम में कोई सामान्य पर्यटक इस दुर्गम इलाके की यात्रा करता नहीं, करता भी है तो उसके बचने की सम्भावना कम ही होती है। ऐसे मौसम में खुद पहाड़ी लोग भी इन स्थानों को प्रायः छोड़ देते हैं। लेकिन किसी ठेठ यायावर की वह यात्रा भी क्या जिसमें जोखिम न हो। इस लिहाज़ से देखें तो यह यात्रा-वृत्तान्त दाँतो तले ऊँगली दबाने पर मजबूर करने वाला है। यात्रा में संकट कम नहीं है। भूकम्प आता है, ग्लेशियर दरक उठते हैं। कई बार तो स्थानीय सहयोगी भी हताश हो जाते हैं और इसके लिए लेखक की नास्तिकता को दोष देते हैं। फिर भी यह यात्रा न केवल स्थानीय जन-जीवन के कई दुर्लभ चित्र सामने लाती है, बल्कि हज़ारों फीट ऊँचाई पर खिलने वाले ब्रह्मकमल, नीलकमल और फेनकमल जैसे दुर्लभ फूलों के भी साक्षात् दर्शन करा देती है। लेखक बार-बार पौराणिक इतिहास में जाता है और पांडवों के स्वर्गारोहण के मार्ग के चिह्न खोजता फिरता है। श्रुति-इतिहास से मेल बिठाते हुए पांडवों का ही नहीं, कौरवों का भी इतिहास जोड़ता चलता है। इस बारे में लेखक का अपना अलग ही दृष्टिकोण है। वह महाभारत को इतिहास नहीं मानता, लेकिन यह भी नहीं मान पाता कि उसमें सब कुछ कपोल कल्पना है। इस अर्थ में देखें तो यह किताब इतिहास की भी एक यात्रा का वृत्तान्त है। आश्चर्य नहीं कि रवानी और मौज सिर्फ लेखक के योजना-निर्माण में ही नहीं, बल्कि इस वृत्तान्त की भाषा में भी है जिसे पढने का सुख किसी औपन्यासिक रोमांच से भर देता है।

About the Author: 

Born: April 8, 1961
अजय सोडानी
अजय सोडानी का जन्म 8 अप्रैल, 1961 को इन्दौर में हुआ। इनकी प्रारम्भिक शिक्षा इन्दौर के वैष्णव स्कूल में हुई। एम.जी.एम. मेडिकल कॉलेज, इन्दौर से इन्होंने एम.बी.बी.एस. और एम.डी. तथा एम्स, नई दिल्ली से न्यूरोलॉजी में डी.एम. की उपाधि प्राप्त की। फिलहाल सेम्स मेडिकल कॉलेज, इन्दौर में प्रोफेसर (न्यूरोलॉजी) के रूप में कार्यरत हैं। भ्रमण करना इनके जीवन का विशेष पक्ष रहा है। इन्होंने शहरों से इतर, भारत के सुदूर इलाकों में भी सपत्नीक पैदल भ्रमण करने का गौरव हासिल किया है। अपनी यात्राओं के दौरान अर्जित अनुभवों को कविता, निबन्ध, छायाचित्र तथा कहानियों का रूप देनेवाले अजय सोडानी देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में निरन्तर प्रकाशित व प्रशंसित होते रहे हैं। अपनी विशिष्टता के कारण ही इनकी यात्राएँ
‘लिम्का बुक ऑफ रिकॉड्र्स’—2006 तथा 2011 में दर्ज की जा चुकी हैं। हिमालय-यात्रा सीरीज़ में यह इनकी पहली पुस्तक है।
सम्पर्क : 42, कालिंदी कुञ्ज, इन्दौर- 452016
ई-मेल : [email protected]

Write a Review

Review दरकते हिमालय पर दर-ब-दर (Darakte Himalaya Par Dar-Ba-Dar).

Your email address will not be published. Required fields are marked *