Simply enter your keyword and we will help you find what you need.

What are you looking for?

ग्यारहवीं ए के लड़के (Gyarahvin-A ke Ladke)

Nominated | Book Awards 2019 | Children's/Young Adult Writing

ग्यारहवीं ए के लड़के (Gyarahvin-A ke Ladke)

Author: गौरव सोलंकी (Gaurav Solanki)
Publisher: Rajkamal Prakashan

Award Category: Children's/Young Adult Writing

About the Book: 

गौरव सोलंकी नैतिकता के रूढ़ खाँचों में अपनी गाड़ी खींचते-धकेलते लहूलुहान समाज को बहुत अलग ढंग से विचलित करते हैं। और, यह करते हुए उसी समाज में अपने और अपने हमउम्र युवाओं के होने के अर्थ को पकडऩे के लिए भाषा में कुछ नई गलियाँ निकालते हैं जो रास्तों की तरह नहीं, पड़ावों की तरह काम करती हैं। इन्हीं गलियों में निम्न-मध्यवर्गीय शहरी भारत की उदासियों की खिड़कियाँ खुलती हैं जिनसे झाँकते हुए गौरव थोड़ा गुदगुदाते हुए हमें अपने साथ घुमाते रहते हैं। वे कल्पना की कुछ नई ऊँचाइयों तक किस्सागोई को ले जाते हैं, और अकसर सामाजिक अनुभव की उन कंदराओं में भी झाँकते हैं जहाँ मुद्रित हिन्दी की नैतिक गुत्थियाँ अपने लेखकों को कम ही जाने देती हैं। इस संग्रह में गौरव की छह कहानियाँ सम्मिलित हैं, लगभग हर कहानी ने सोशल मीडिया और अन्य मंचों पर एक खास किस्म की हलचल पैदा की। किसी ने उन्हें अश्लील कहा, किसी ने अनैतिक, किसी ने नकली। लेकिन ये सभी आरोप शायद उस अपूर्व बेचैनी की प्रतिक्रिया थे, जो इन कहानियों को पढक़र होती है। कहने का अंदाज गौरव को सबसे अलग बनाता है, और देखने का ढंग अपने समकालीनों में सबसे विशेष। उदारीकृत भारत के छोटे शहरों और कस्बों की नागरिक उदासी को यह युवा कलम जितने कौशल से तस्वीरों में बदलती है, वह चमत्कृत करनेवाला है।

About the Author: 

Born: July 7, 1986
गौरव सोलंकी
कहानियाँ, कविताएँ, स्क्रीनप्ले, नॉन-फिक्शन और गाने लिखने वाले गौरव सोलंकी का जन्म 7 जुलाई, 1986 को हुआ। बचपन संगरिया (राजस्थान) में बीता। आईआईटी रुडक़ी से इंजीनियरिंग में ग्रेजुएशन के बाद गौरव कुछ साल ‘तहलका’ के लिए सिनेमा और समाज पर भी लिखते रहे। 2014 में आई फिल्म ‘अग्ली’ के गीत लिखे। फैंटम फिल्म्स ने इनकी कहानी ‘हिसार में हाहाकार’ पर फिल्म बनाने के अधिकार भी खरीदे हैं। इनकी स्क्रिप्ट ‘निसार’ 2016 में ‘दृश्यम सनडैंस स्क्रीनराइटर्स लैब’ के लिए चुनी गई। अभी मुम्बई में रहते हैं।
सम्पर्क [email protected]

Write a Review

Review ग्यारहवीं ए के लड़के (Gyarahvin-A ke Ladke).

Your email address will not be published. Required fields are marked *